सूरज से गुफ्तगू #10

20190608_184256.jpg

दिल तो मशवरे नहीं करता मुझसे
क्या तू भी अब नहीं करेगा
गम रास आने लगा था मुझे
क्या तू भी अब ग़मज़ादा हो जायेगा?

कुछ और गुफ्तगू: सूरज से गुफ्तगू #9

Advertisements

24 thoughts on “सूरज से गुफ्तगू #10”

  1. तेरे इस स्वर पे रोशनी है तेज मेरी, मशवरा और स्वर दोनों रास है मेरे, गुफ्तगू तो एहसास का पल है, हमेशा ही मौजूद है 🙂

    Liked by 2 people

Your perception holds importance for me.

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s