सूरज से गुफ्तगू #5

बिखेर दिए है आज जो बदल भी तुमने बस गए हो यु उसके भी दिल में कुछ तो शर्म करो कितनो के दिल के तोड़ोगे अब बस भी करो, मोहब्बत करता हु, ये कितनो से कहोगे. थोड़ी और गुफ्तगू: सूरज से गुफ्तगू #4

I Cannot Breathe.

  Open the door Open the windows. Let the thinnest air in, For I cannot breathe in.   Let me feel the breeze Let me cherish the wind. Allow me to swallow the air, For I cannot breathe in.   Unclasp your fingers from Around my neck. Loosen your hold From around my hips, ForContinue reading “I Cannot Breathe.”