03:21 AM

Let’s take it one breath at a time! Shall we? I have a small book trailer for my next book which is coming out shortly. Also, I have attached the book blurb to give a general idea about it’s contents. Do watch!

सूरज से गुफ्तगू #22

पाना नहीं सिर्फ चाहना है तुजे कुछ ज्यादा नहीं सिर्फ सपनो में देख लेना तू मुझे, और कुछ नहीं तो बसा लेना तेरी हर रंगीन अंगड़ाई में फिर तू चाहे तो बस बन कर रह जाउंगी तेरी ही परछाई मै। Read more: सूरज से गुफ्तगू #21

सूरज से गुफ्तगू #17

सुन आज कोई बात नहीं करते हैं तेरे फिर से डूब जाने की बात नहीं करते हैं, तेरे, हर शाम के बाद वह बदलते हुए चाँद के पास जाने की बात नहीं करते हैं तुजे यु किसी से बाटने की बात नहीं करते हैं, हमारे कभी न मिल पाने की बात नहीं करते हैं सुनContinue reading “सूरज से गुफ्तगू #17”

सूरज से गुफ्तगू #16

तुम कहते नहीं पर मुझपे मरते ज़रूर होतुम थकते नहीं पर मुझे ख्वाबो में देखने को थोड़ी देर सोते जरूर हो,तुम्हारे होठों पे सजी इबादत में, मैं हूँतुम्हारे सीने में छिपी वो सुकून की चाह में, मैं हूँ,तुम कहते नहीं पर रातो से नफरत तुम्हे भी हैंतुम कहते नहीं यार, पर मेरी वो हर अनकहीContinue reading “सूरज से गुफ्तगू #16”

A Discourse In Distortion

An infinite jigsaw puzzle With distorted edges and a path of struggles No end in sight No pieces fit I haven’t found my own solution My failure, my only remission No answers, no sense, no meaning Only a delusion, a small chaos Why should be things easy to understand?  A puzzle in piece Or aContinue reading “A Discourse In Distortion”

Skin & Cells.

“I am having a migraine.”   If I said this to anyone right now, I’d probably get ten different solutions for it, from using medications and meditations to gulping down tablets and going off to sleep for a while. I’d get people telling me that it will probably go away soon, that it was becauseContinue reading “Skin & Cells.”