Posies: Available For Pre-order

I don’t know how to say this. But I think I did it. See, how skeptic I still sound of myself? But that is how it is and you if you are still around my blog after an absence of eternity almost after every post, I know you will still go ahead and read this.Continue reading “Posies: Available For Pre-order”

The Wait For Spring.

Warning: This is going to be pretty long. Proceed and get bored at your own risk!   * I should probably start with wishing new years to all of you, but I am sure that I am very late for that, very very late. So, shall I just go ahead and ask you if youContinue reading “The Wait For Spring.”

Her Mysterious Meshuga.

Hey folks, I hope you all are doing fine. I know I have been away for a long time, but I promise I’ll be back as soon as I can. Till then I am very pleased to share another poem of mine that has been published at Spillwords, a place where words matter. I sent themContinue reading “Her Mysterious Meshuga.”

Her Altruistic Mien.

Poetry has been a consistent part of my life, first reading and then writing. Though if someone would have said that I could try writing poems, a year back, I would have rolled my eyes and said, “Yeah, right!” Not that I have become very confident of my pieces, but I have come as farContinue reading “Her Altruistic Mien.”

सूरज से गुफ्तगू #13

कभी कभी जब अकेले रोती हूँ तो रातो को भी तेरा इंतज़ार करती हूँ कभी कभी, जब अकेले में सोती हूँ तो खुद की उंगलियों से यु सिलवटे तेरी बना जाती हूँ तेरे बाहों में सिमटना चाहती हूँ कुछ देर ही सही, तुजसे दिल का हर राज़ कहना चाहती हूँ. तू समझता नहीं मेरी प्यासContinue reading “सूरज से गुफ्तगू #13”

सूरज से गुफ्तगू #12

तू ढूंढ रहा है कुछ ऐसा सुना है मैंने तू खो चूका है कुछ ऐसा पता लगा है मुझे. अधूरा अधूरा सा लग रहा होगा न जैसे मुझे अब तक लगता था आज तक तूने कहा था चल आज मै तुजसे वही बात कहती हूँ नहीं पायेगा मुझे जब तक मिश्री सा घुल नहीं जाताContinue reading “सूरज से गुफ्तगू #12”

सूरज से गुफ्तगू #11

सुन, तू कब से काबिल हो गया यु गम छुपाने में तू कब से यु हिचकिचाने लगा खुल के मुस्कराने में कोई पुरानी छूटी हुई ख़ुशी याद आयी है या बस मुझसे दूर जाने की रुस्वाई है? कुछ और गुफ्तगू: सूरज से गुफ्तगू #10

सूरज से गुफ्तगू #10

दिल तो मशवरे नहीं करता मुझसे क्या तू भी अब नहीं करेगा गम रास आने लगा था मुझे क्या तू भी अब ग़मज़ादा हो जायेगा? कुछ और गुफ्तगू: सूरज से गुफ्तगू #9

सूरज से गुफ्तगू #9

सुनो थोड़ा ठहर जाओ तुमसे एक बात केहनी थी, वो बस सुनते जाओ दिल आज फिर भर आया है मै, रात तुम्हारे आने के इंतज़ार में काट लुंगी तुम बस शाम सहारा बनते जाओ, सुनो, बस थोड़ा ठहर जाओ.   कुछ और गुफ्तगू: सूरज से गुफ्तगू#8

सूरज से गुफ्तगू#8

वो कहता है बारिश भी पसंद है वो कहता है सूरज भी पसंद है, देखो, दोनों का मेल नहीं हो सकता इंद्रधनुष सा जादू हर किसी के नसीब में नहीं हो सकता. कुछ और गुफ्तगू: सूरज से गुफ्तगू #7