सूरज से गुफ्तगू #19

तुम एक ख्वाब होतुम से मिलने की एक अनकही चाहत है,कब तक नज़्मों में बाते करू तुमसेकब तक वो किताबो वाला इश्क़ करू तुमसे?अब है तेरी बारी, मुक्कम्मल कर मेरे ख्वाबचाहे फिर क्यों न करनी पड़े जंग तुजे उसे रब से ही आज। Read More: सूरज से गुफ्तगू #18 PS: If anyone remembers, I have aContinue reading “सूरज से गुफ्तगू #19”

Behind the Book – Posies #guestpost by Moushmi Radhanpara

Originally posted on Bookaholic:
? First of all Thanks a lot to dear  Moushmi Radhanpara for accepting my request for this “Guest Post”. We met on Instagram! ( I think that’s the way the future will be 😉 ) . And I am impressed by her book choices which often included the topic “Feminism”. I…