सूरज से गुफ्तगू #13

कभी कभी जब अकेले रोती हूँ तो रातो को भी तेरा इंतज़ार करती हूँ कभी कभी, जब अकेले में सोती हूँ तो खुद की उंगलियों से यु सिलवटे तेरी बना जाती हूँ तेरे बाहों में सिमटना चाहती हूँ कुछ देर ही सही, तुजसे दिल का हर राज़ कहना चाहती हूँ. तू समझता नहीं मेरी प्यासContinue reading “सूरज से गुफ्तगू #13”

सूरज से गुफ्तगू #7

क्या यार तुम आज फिर चुप गये देखो ये रोज रोज का रूठना मनाना नहीं चलेगा तुम्हारा रोज यु हमसे दूर जाना नहीं चलेगा. हमने तो कभी कहा नहीं की हमे बारसात पसंद है हमे तो तुम्हारी वो दूर से भेजी रंगीन आहट ही पसंद है हमने कब कहा की हमे वो पेड़ से टूटContinue reading “सूरज से गुफ्तगू #7”

सूरज से गुफ्तगू #6

चलो जाओ, नहीं करनी तुमसे कोई मुलाकात तुम नहीं चाहते तो नहीं करनी तुमसे कोई बात दूर-दूर ही अच्छे हो चाँद क बिना ही पुरे हो. शायद इसी बात का गुर्रर है चांदनी से पहले जो तुमसे मोहब्बत का इकरार किया है. हमने तो कोई पर्दा न रखा था पर तुम्हारे सुरूर का ताप हीContinue reading “सूरज से गुफ्तगू #6”

सूरज से गुफ्तगू #5

बिखेर दिए है आज जो बदल भी तुमने बस गए हो यु उसके भी दिल में कुछ तो शर्म करो कितनो के दिल के तोड़ोगे अब बस भी करो, मोहब्बत करता हु, ये कितनो से कहोगे. थोड़ी और गुफ्तगू: सूरज से गुफ्तगू #4

सूरज से गुफ्तगू #4

First things first #NoFilters पागल ही कह लो हम तो सूरज से भी बातें करते है, ख़्वाबीदा ही कह लो हम तो उससे मिलने का ख्वाब भी देखते है. कुछ और गुफ्तगू उस अनजान सूरज से: सूरज से गुफ्तगू #3 सूरज से गुफ्तगू #2 सूरज से गुफ्तगू #1

सूरज से गुफ्तगू #2

आज फिर छुप गया था वो मुझसे न जाने कम्बखत कितनी कहानिया छुपा रहा था मुझसे. कुछ और शिकायते सूरज से : सूरज से गुफ्तगू #1

सूरज से गुफ्तगू #1

तुम रोज जो छुप-छुप के मुझे यु देखा करते हो, सिर्फ नफरत ही है ज़ेहन में या थोड़ी मोहब्बत भी किया करते हो? PS: I refrain to translate them in English! I don’t think I can justify it!

The Glorious Madness.

Like a cloud of fire I soar a little higher In the burning light Of that sadistic sun. Sinking-rising- Burning the golden lightening In the broad of daylight. He fears not- Throwing the silver arrows and spheres In the dawn- quite clear The dusk, a little dear He springs, trying to cut my wings AmidstContinue reading “The Glorious Madness.”

That Playful Drop of Water!

One of the perks of living in a small city is, you are almost always close to nature, especially when your city is known to be clean and green. I cannot say that this is the cleanest of all but when compared to all the other cities that I have been in, my city isContinue reading “That Playful Drop of Water!”

SEVEN B&W Photos; Day 6

The colors are really important, it changes your life, the way you look at it. Some might think that this is a picture of a full moon night, and some might perceive it as the bright and radiant sun. I am participating in the Seven Days. Seven Black and White Photos of Your Life. NoContinue reading “SEVEN B&W Photos; Day 6”