सूरज से गुफ्तगू #38

आज जाते वक़्त बार बार पीछे मुड़ के देख रही थीकी शायद तुम्हारी एक जलक और दिख जायेवक़्त से बार बार मिन्नतें कर रही थीकी काश थोड़ा सा वक़्त और मिल जायेयु तो खफा थी मै तुजसेपर मोहब्बत-ऐ-वफ़ा का आलम कोई कैसे भूल जाये Read More: सूरज से गुफ्तगू #37

सूरज से गुफ्तगू #24

मै कुछ देर का मेहमान हुतू जीता चला जायेगातूने ही कहा था, मै जरूरी हु सांस लेने के लिएफिर तू क्या करेगा, मेरे बाद मुझे पाने के लिए?चल, तुजे क्या करना है मै ही तुजे बता देती हूँतेरे हर हाल का पता मै ही लिख के लती हूँतू क्या मेरे लिए नग्मे लिखेगामेरी यादो सेContinue reading “सूरज से गुफ्तगू #24”