सूरज से गुफ्तगू #13

कभी कभी जब अकेले रोती हूँ तो रातो को भी तेरा इंतज़ार करती हूँ कभी कभी, जब अकेले में सोती हूँ तो खुद की उंगलियों से यु सिलवटे तेरी बना जाती हूँ तेरे बाहों में सिमटना चाहती हूँ कुछ देर ही सही, तुजसे दिल का हर राज़ कहना चाहती हूँ. तू समझता नहीं मेरी प्यासContinue reading “सूरज से गुफ्तगू #13”

Moorings.

  Weekends shouldn’t be about going out, partying, trashing, shopping, dining, and tiring yourself. They should be about the things that you would want to do otherwise. It should be about, well, honestly my answer changes as frequently as the illogical and unwanted threats, thrown by people who might run a country and yet wouldn’tContinue reading “Moorings.”

सूरज से गुफ्तगू #12

तू ढूंढ रहा है कुछ ऐसा सुना है मैंने तू खो चूका है कुछ ऐसा पता लगा है मुझे. अधूरा अधूरा सा लग रहा होगा न जैसे मुझे अब तक लगता था आज तक तूने कहा था चल आज मै तुजसे वही बात कहती हूँ नहीं पायेगा मुझे जब तक मिश्री सा घुल नहीं जाताContinue reading “सूरज से गुफ्तगू #12”

सूरज से गुफ्तगू #11

सुन, तू कब से काबिल हो गया यु गम छुपाने में तू कब से यु हिचकिचाने लगा खुल के मुस्कराने में कोई पुरानी छूटी हुई ख़ुशी याद आयी है या बस मुझसे दूर जाने की रुस्वाई है? कुछ और गुफ्तगू: सूरज से गुफ्तगू #10

सूरज से गुफ्तगू #10

दिल तो मशवरे नहीं करता मुझसे क्या तू भी अब नहीं करेगा गम रास आने लगा था मुझे क्या तू भी अब ग़मज़ादा हो जायेगा? कुछ और गुफ्तगू: सूरज से गुफ्तगू #9

सूरज से गुफ्तगू #9

सुनो थोड़ा ठहर जाओ तुमसे एक बात केहनी थी, वो बस सुनते जाओ दिल आज फिर भर आया है मै, रात तुम्हारे आने के इंतज़ार में काट लुंगी तुम बस शाम सहारा बनते जाओ, सुनो, बस थोड़ा ठहर जाओ.   कुछ और गुफ्तगू: सूरज से गुफ्तगू#8

Sea Prayer!

A Sea prayer is published as a book but honestly it’s a poem. It is a lucid, magical poem with such colorful and breathtaking illustrations that I spent more time looking and gawking than reading.   The prayer seems like a bedtime story for a kid, spoken by his father on a moonlit night, butContinue reading “Sea Prayer!”

A Year Older, A Year Wiser #3

I am sitting at my over embellished desk staring at the picture that I so adore, sipping tea. Sipping tea has been the highlight of the day these days, well, not exactly sipping tea, but trying various teas has been. I am so bored and useless that all I look forward to a day isContinue reading “A Year Older, A Year Wiser #3”

To Be Worthy Or Not To Be!

There are days when I write a four-line poem and am satisfied with my days product.   And then there are days when I go out for a walk, eat the best and the healthiest, pray, get an exceptional work out before sleep (if you know what I mean), rest, work, study for my papers,Continue reading “To Be Worthy Or Not To Be!”