सूरज से गुफ्तगू #22

पाना नहीं सिर्फ चाहना है तुजे कुछ ज्यादा नहीं सिर्फ सपनो में देख लेना तू मुझे, और कुछ नहीं तो बसा लेना तेरी हर रंगीन अंगड़ाई में फिर तू चाहे तो बस बन कर रह जाउंगी तेरी ही परछाई मै। Read more: सूरज से गुफ्तगू #21

A Suitable Boy

It took me approximatley two years before I picked this 1500 pages long and snugly printed paperback from my shelf. But I can safely say that each word of it has been a pleasure, an inebriated drink on life and journeys.  A Suitable Boy by Vikram Seth, at an outset is a long enchanting sagaContinue reading “A Suitable Boy”